अपराधमध्य प्रदेश

अमृत प्रोजेक्ट लिमिटेड के मैनेजर और अन्य पदाधिकारियों पर मामला दर्ज

जबलपुर :लोगों के पैसे जमा करने के बाद जब पैसे देने की बारी आई तो उसके पहले ही कंपनी गायब हो गई ऐसी ही एक कंपनी के डायरैक्टर एवं अन्य पदाधिकारियों के विरूद्ध पुलिस ने धोखाधडी का प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच सुरु कर दी है,

ये है पूरा मामला,

मामला रांझी थाना क्षेत्र का है जहां पर उत्पल दत्ता उम्र 50 वर्ष निवासी कांचघर कालोनी थाना सिविल लाईन ने लिखित शिकायत की थी कि  उसने  अमृत प्रोजेक्ट लिमिटेड में वर्ष 2012 में रूपयंे जमा किया था जिसकी वर्ष 2017 में  अवधि समाप्त हो चुकी है लेकिन  जमा की हुई राशि उसे अभी तक अप्राप्त है, अमृत प्रोजेक्ट लिमिटेड का आफिस जबलपुर में शाखा रांझी में और मुख्य शाखा कोलकत्ता में था जिसका आफिस बंद हो चुका है इस कम्पनी  में गरीबों और जरूरतमंद लोगों ने रूपये लगाया था , कम्पनी लोगों का पैसा लेकर चली गयी है, ।पीड़ित की शिकायत पुलिस ,मामले की जांच करते हुए अमृत प्रोजेक्ट लिमिटेड शाखा रांझी के द्वारा निवेशकों को 6 वर्ष में पैसा दुगना होने का लालच देकर नगद रूपये जमा कराया जाना तथा परिपक्वता अवधि पूर्ण होने पर अमृत प्रोजेक्ट लिमिटेड शाखा रांझी का आफिस बंद कर  अमानत में खयानत कर पैसा वापस नहीं करते हुये रकम हड़प कर धोखाधडी करना पाया जाने पर थाना रांझी में अमृत प्रोजैक्ट के डायरैक्टर कैलाश चंद दुजारी एवं अमृत प्रोजेक्ट लिमिटेड के अंन्य पदाधिकारियों के विरूद्ध धारा 406, 420 भादवि एवं 6(1) म.प्र. निपेक्षकों के हितों का संरक्षण अधिनियम का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया । 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close