जरा हटकेमध्य प्रदेश

आवारा पशुओं का सड़कों में जमावड़ा,रोज हो रहे हादसे,कुंभकर्णी नींद सो रहे जिम्मेदार

जबलपुर :बीच सड़क पर जुगाली करते जानवरों की बजह से रोज सड़क हादसे बढ़ रहे है,लेकिन जिम्मेदार अपनी जिम्मेदारी भूल कर जानवरो की बजह से हो रहे सड़क हादसों की अनदेखी कर रहे है ,आपको बता दें की चाहे जबलपुर से लेकर कटनी एनएच मार्ग की बात हो या जबलपुर से कुंडम या पाटन ,या फिर सिहोरा से मंझोली और मंझोली से कटंगी या फिर इंद्राणा सड़क की बात करें इन सभी जगहों पर दिनरात आवारा पशुओं को झुंड बनाकर बीच सड़क में जुगाली करते देखा जा सकता है, इनकी बजह से आएदिन लोग घटनाओं का शिकार हो रहे है तो कहीं पर ये पशु खुद वाहन की चपेट में आकर असमय ही काल के गाल में समा जाते है, कहने को तो कई सरकारी व गैर सरकारी संगठनों द्वारा गौ सेवा की बात की जाती है लेकिन सड़कों में घटना का शिकार हो रहे बेजुवान जानवरो की न तो उनके मालिकों को फिकर है न ही प्रशासन को ,या फिर यह कहना गलत न होगा की इन पशुओं से काम निकाल मतलबी पशु मालिको ने इन्हें इनके हाल पर छोड़ दिया,तो वहीँ गोसेवकों को कोई घटना घटने के बाद ही सेवा के नाम पर फोटो खिंचवाने के लिए इनकी याद आती है, उसके पहले नहीं

किसकी है जिम्मेदारी?

वैसे तो हर नगर पालिका क्षेत्रों में आवारा पशुओं की रोकथाम के लिए हाका गेंग बनाई जाती है,लेकिन लगता है हांका गेंग भी गहरी नींद में सो रही है, उसके बाद 24 घँटे टोल टैक्स लेने वाली एनएचएआई की भी तो कुछ जिमनेदारी बनती है ,तो वहीँ देखा जाए तो वीते कुछ वर्षों में पुलिस ने भी आवारा पशुओं से होने वाली सड़क दुर्घटनाओँ को रोकने के लिए कुछ हद तक अभियान चलाकर प्रयास किया था लेकिन अधिकारी बदलते ही अभियान किसको याद रहता है, पुलिस द्वारा चलाये गए अभियान में सड़कों में बैठे आवारा पशुओं के सींगों में रेडियम लगाई गई थी ताकि वाहन चालक को सड़क में बैठा आवारा पशु दूर से ही दिखाई दे और राहगीर घटना का शिकार होने से बच सके

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close