जरा हटकेमध्य प्रदेश

इस खंडहरनुमा स्कूल में पढ़ाई करने मजबूर हैं देश के भविष्य,कभी भी हो सकता है बड़ा हादसा

बहोरीबंद :(अवधेश यादव ): कटनी जिले की बहोरीबंद जनपद पंचायत के अंतर्गत ग्राम पंचायत किवलरहा जोकि आदिवासी बाहुल्य ग्राम जंगल के बीच स्थित है जहां पर प्राथमिक शाला भवन बना हुआ है जिसमें सभी दीवारों में लंबी चौड़ी दरारें आ चुकी है और हर्ष भी गड्ढों में तब्दील हो गया है यहां तक की ऊपर का छप्पर भी चरमरा गया है 1 शिक्षा का मंदिर खंडहर का रूप लेकर कराह रहा है जहां पर शिक्षक महोदय भी शिक्षा ग्रहण कराने के लिए हर समय प्रयासरत रहते हैं तो वही कक्षा 1 से 5:00 तक की मासूम शिक्षा ग्रहण करने के लिए आते हैं आखिर सवाल यह उठता है कि कई वर्षों से बने शिक्षा के मंदिर को हुऐ लेकिन आज तक संबंधित विभाग के आला अधिकारी वह चुने हुए जनप्रतिनिधि क्या मूक बधिर बन चुके हैं या फिर कोई लंबी वारदात को स्वप्न देख रहे हैं या फिर कोई लंबी फायदेमंद राशि की ताक में हैं शिक्षा विभाग आखिर एक प्रतिष्ठित व सम्माननीय जनक विभाग है जिससे दुनिया की प्रधानमंत्री से लेकर एक चपरासी तक एक किसान के बेटे मजदूर के बेटे तक शिक्षा ग्रहण करते हैं लेकिन आज वही शिक्षा विभाग एक ऐसा विभाग हो चुका है की पढ़ाने वालों के आलीशान महल बने हुए हैं और जहां से शिक्षा का जन्म होता है वह शिक्षा का मंदिर खंडहर बन सिसक सिसक कर दम तोड़ने को मजबूर है ,

सर्व शिक्षा अभियान के तहत बनाई गई थी यह बिल्डिंग

आपको बता दें कि वर्ष 2010 11 मैं सर्व शिक्षा अभियान के तहत कई अनेकों ऐसे गांव हैं जहां पर शासकीय राशि का उपयोग होकर बंदरबांट किया गया है और भवन आज भी अधूरे पड़े हैं अनेकों शिकायतों के बावजूद जांचों को कूड़ेदान में सुरक्षित कर आराम फरमाने मैं जिम्मेवार अधिकारी व्यस्त हैं अब देखते हैं कि शिक्षण सत्र चालू होने के बावजूद खंडार बने प्राथमिक शाला का उद्धार होगा या फिर कोई बड़ा हादसे का रूप ले लेगा,तो वही माध्यमिक शाला का भी वही बुरा हाल व्यवस्थाओं की जगह अवस्थाएं पनप रहे

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close