जरा हटकेमध्य प्रदेश

कब आएगा पानी ?राहगीरों को अभी याद आ रही नानी

जबलपुर जिले के सिहोरा -खितौला में पाइप लाइन विस्तार करने वाली कंपनी कब तक अपना काम पूरा कर पायेगी ये तो ठीक -ठीक कोई नहीँ बता पा रहा है,लेकिन वर्तमान समय में राहगीरों के लिए मुसीबत जरूर खड़ी हो गई है, पाइप लाइन विस्तार के लिए कंपनी द्वारा किये जाने वाले गढ्ढो या नाली को हफ़्तों तक यूं ही छोड़ दिया जाता है, जिससे न सिर्फ राहगीरों को बल्कि स्थानीय लोगों को भी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है, सूत्रों की मानें तो कंपनी द्वारा मार्च 2020 तक काम पूरा कर पानी सप्लाई सुरु कर देनी थी लेकिन ऐसा नहीँ हो सका आज भी अधूरे पड़े काम को पूरा करने में कंपनी को पसीना आ रहा है,

कोरोना के कारन बढ़े छ माह

वहीँ पाइप लाइन विस्तार करने वाले कम्पनी के अधिकारियों की मानें तो कोरोना के कारण सरकार ने इन्हें छः महीने की और मोहलत दी है,मतलब अब इन्हें सितंबर 2020 तक पूरा काम कंप्लीट करके देना था,हालाकि कंपनी के अधिकारियों का यह भी कहना है की उन्हें दिसंबर 2020 तक का समय बढ़ाकर दिया गया है,लेकिन अभी तक कंपनी द्वारा न तो टंकियां,न ही इंटकवेल कंप्लीट किये गए है ,साथ ही जिस गति से यहां काम चल रहा है, उसमें छः महीने में भी इनका काम पूरी तरह कम्पलीट नहीं हो पायेगा,

कब तक आएगा पानी अभी याद आ रही नानी

वहीं लोगों की मानें तो नगर की गलियों में पाइप लाइन विस्तार करने वाली कंपनी द्वारा किये गए गढ्ढे और खोदी गई नाली समय पर दुरस्त न करने से राहगीरों को बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, उन्हें रास्ते से चलने में नानी याद आ जाती है,कई लोग तो गिरकर घायल भी हो चुके है, कुल मिलाकर देखा जाए तो नगर भृमण किसी मुसीबत से कम नहीँ रह गया,

उड़ती धूल से हो रही बीमारियां,

वहीं इतना ही नहीँ नियमो की मानें तो कंपनी द्वारा पाइप लाइन के कनेक्शन या नाली खोदने के बाद अस्थाई व्यवस्था करनी चाहिए लेकिन अस्थाई व्यवस्था करने में कपंनी द्वारा बहुत लेटलतीफी की जाती है,जिससे लोग धूल से भी स्वास की बीमारियों का शिकार हो रहे है,

कब तक मिलेगा नर्मदा जल ,

वहीं गौरतलब है की नगरों को पेयजल समस्या से निजात दिलाने प्रदेश शासन ने नर्मदा जल से नगरवासियों के कंठ तर करने नर्मदा नदी के जल को जिले की समस्त नगर पालिका एवं नगर परिषद तक पहुंचाने का बीड़ा उठाया था जिसमें सिहोरा नगरपालिका अंतर्गत नगर में पाइप लाइन विस्तार के साथ 4 टंकियों का निर्माण मार्च 2020 तक पूर्ण कर नर्मदा जल की आपूर्ति नगर में किए जाने की चर्चा से नगर वासियों में हर्ष व्याप्त था किंतु नियमों को दरकिनार कर किए जा रहे पाइपलाइन विस्तार में हो रहे विलंब नगर वासियों के लिए जी का जंजाल बन गया है, नगर की सड़कों को खोदकर बिछाई जा रही पाइप लाइन के गड्ढों से आंतरिक यातायात बाधित होने के साथ-साथ धूल मिट्टी के गुब्बार ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है,

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close