किसी भी स्थिति में संक्रमित मरीजों को मौत से बचाना है : संभागायुक्त चौधरी

शेयर करें:


जबलपुर :संभागायुक्त महेशचन्द्र चौधरी और कलेक्टर भरत यादव ने आज मेडीकल कॉलेज में चिकित्सा अधिकारियों की बैठक ली। इस दौरान अपर कलेक्टर श्री हर्ष दीक्षित, डीन मेडीकल कॉलेज डॉ. प्रदीप कसार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. रत्नेश कुररिया व संबंधित चिकित्सक उपस्थित थे।संभागायुक्त श्री चौधरी ने इस दौरान प्रतिदिन की जाने वाली कोरोना सेम्पल जांच के बारे में जानकारी लेते हुये निर्देश दिये कि प्राथमिकता से कोरोना सेंपल की जांच करे। पॉजीटिव मरीज का उचित इलाज करे, किसी भी स्थिति में संक्रमित मरीज को मौत से बचाना है। जो भी मरीज सीरियस है समय पर उसके जांच कर इलाज करे। इसके साथ उन्होंने कहा कि प्लाजमा थेरेपी व नई दवाईयों के लिये मेडीकल एजुकेशन से अनुमति लें।बैठक में यह बात सामने आई कि पिछले दिनों की तुलना में जांच पेंडेंसी में कमी आई है और नई जांच मशीन लग जाने से सेम्पल जांच तेजी से होंगे। श्री चौधरी ने कहा कि सेम्पल जांच की डाटा एंट्री रोज करें। उन्होंने सेम्पल जांच, उसके रख-रखाव, रिपोर्टिंग टाइम, मेन पावर व चिकित्सा संसाधन आदि के बारे में समीक्षा की।बैठक दौरान श्री चौधरी के डीन मेडीकल से कहा कि वे मेन पावर के लिये विज्ञप्ति जारी करे और चिकित्सा को लेकर सभी कार्य क्रियाशील रहे। अन्य बीमारियों के साथ अस्थिरोग का भी इलाज सुव्यवस्थित रहे, साथ ही दिव्यांग जनों के इलाज में कोई व्यवधान न हो।कलेक्टर श्री यादव ने कहा कि निश्चित रूप से मेडीकल कॉलेज से गंभीर बीमारियां ठीक होती है, किन्तु आमजन से कुछ अलग ही धारणा है। अत: मेडीकल कॉलेज में प्रदाय की जा रही स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार किया जाये ताकि मेडीकल कॉलेज के प्रति आम लोगों का सकारात्मक रवैया रहे। इसके लिये समय-समय पर मेडीकल कॉलेज से मरीजों के ठीक होने व चिकित्सीय उपलब्धियों के न्यूज जारी होते रहे।
मेडीकल कॉलेज में बेहतर चिकित्सीय सुविधायें सुनिश्चित हो इसके लिये पी.आई.यू. के अधिकारी को निर्देशित किया कि वे निर्माण कार्य में तेजी लाये और नई बिल्डिंग को 30 जुलाई तक पूरा करे और वहां सभी कमरों में लेट-बाथ अटेच हो। साथ ही ऑक्सीजन सप्लाई यूनिट भी लगाये।
कमिश्नर श्री चौधरी व कलेक्टर श्री भरत यादव ने मेडीकन कॉलेज परिसर में डीन मेडीकल व अन्य चिकित्सक अधिकारियों के साथ नई बिल्डिंग और स्पाइनल इंज्यूलरी सेंटर, सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल व स्कूल ऑफ एक्सीलेंस पल्मोलनरी मेडीसिन का निरीक्षण कर कोरोना मरीजों के बेहतर इलाज सुनिश्चित करने के निर्देश दिये।