मध्य प्रदेशस्वास्थ्य

कोविड पेशेंट को लेट रिफर करने वाले अस्पताल पर करें कार्यवाही ,कमिश्नर, चिकित्सा शिक्षा


जबलपुर :कमिश्नर मेडिकल एजुकेशन निशांत वरवड़े ने आज कोविड-19 रोकथाम और नियंत्रण के लिए भविष्य की कार्ययोजना के अंतर्गत आज स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट, स्कूल ऑफ एक्सीलेंस इन पल्मोनरी, वायरोलॉजी लैब और आईसीएमआर का दौरा कर वहां की स्थितियों का जायजा लिया और कहा की निर्माणाधीन स्टेट कैंसर यूनिट को शीघ्र तैयार करें ताकि भविष्य में वहां कोरोना पेशेंट को रखा जा सके। इसके साथ उन्होंने कहा कि वहां फर्नीचर और अन्य आवश्यक उपकरण भी सुनिश्चित करें। श्री वरवड़े ने वायरोलॉजी लैब में जाकर कोरोना सैंपल जांच की स्थितियों के बारे में जानकारी ली और कहा कि जांच में पेंडेंसी न रखें।भ्रमण के उपरांत श्री वरवड़े ने मेडिकल कॉलेज के सभागार में नर्सेज, पैरामेडिकल स्टाफ व क्लास फोर एंप्लाइज के प्रतिनिधियो से चर्चा कर उनकी समस्याओं को सुना और कहा कि उन्हें गर्व है कि कोविड के दौरान उनकी भूमिका सराहनीय रही है उन्होंने कहा कि कोविड 19 के दौरान उपलब्धि मूलक कार्य करने वाले कर्मचारी को सम्मानित किया जाएगा इसके साथ ही उनकी समस्याओं का निराकरण करने के निर्देश भी संबंधित अधिकारी को दिये।मेडिकल कॉलेज सभागार में श्री वरवड़े ने निर्माण कार्यों के साथ अन्य चिकित्सीय विषयों पर चर्चा करते हुए कहा कि जितने भी निर्माणाधीन कार्य हैं उन्हें समय से पूरा करें ताकि कोविड-19 के दौरान वह काम में आ सके और उन्होंने डीन मेडिकल कॉलेज से मेन पावर के संबंध में चर्चा करते हुए कहा कि जहां आवश्यकता है वहां मेन पावर सुनिश्चित करें और उपचार के लिए प्लाज्मा डोनेशन को प्रोत्साहित करें साथ ही कोविड के दौरान उपयोग आने वाले मास्क, हेड कव्हर, पीपीई किट, डेड बॉडी कव्हर आदि की कमी न आये यह सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि डेड बॉडी के पहचान के लिए आईडी बैंड लगाया जाये साथ ही कोविड वेस्ट का डिस्पोजल भी उचित तरीके से गाइडलाइन अनुसार किया जाये। बैठक मे उन्होंने कहा कि बेस्ट वर्कर की लिस्ट बनाकर दिया जाये ताकि उन्हें सम्मानित किया जा सके। साथ ही उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि जो अस्पताल से कोविड पेशेंट के लेट रेफर केस आते हैं तो संबंधित पर कार्यवाही सुनिश्चित करें, क्योंकि लेट रेफर से मृत्यु की संभावना ज्यादा हो जाती है उन्हें समय पर उचित उपचार मिलना चाहिये। श्री वरवड़े ने कहा कि सभी डॉक्टर या पैरामेडिकल स्टाफ के सैलरी या देय है वह समय पर मिल जाए यह सुनिश्चित की जाए ताकि उन्हें किसी प्रकार कोई दिक्कत न हो।
बैठक के दौरान संभागायुक्त श्री महेश चंद चौधरी ने कहा कि जो पेशेंट आ रहे हैं उनकी पहचान करें,वे कहां से आ रहे हैं और कैसे आ रहे हैं तथा किस स्थिति में आ रहे हैं इसके लिये प्रतिदिन समीक्षा की जाये तभी कोविड से मृत्यु के केस की एनालिसिस सही ढंग से कर पायेंगे और इसे रोक पायेंगे।
बैठक में संभागायुक्त श्री चौधरी के अलावा अपर कलेक्टर श्री हर्ष दीक्षित, डीन मेडिकल कॉलेज डॉ प्रदीप कसार सहित अन्य संबंधित अधिकारी व चिकित्सक उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close