मध्य प्रदेशसंपादकीय

क्या शराब दुकानों में हो सकेगा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ?या आफत को बुला रहे हैं सरकार

(पवन यादव ):कोरोना संकट काल के चलते देश में बढ़ते कोरोना मरीजों की संख्या को देखते हुए केंद्र सरकार ने लॉक डाउन 3.0 लागू कर दिया,बढाया गया लॉक डाउन 14 दिनों यानी 17 मई तक के लिए होगा ,लेकिन इस दौरान अभी तक बन्द पड़े मदिरालयों के ताले खुलवाकर शराब बिक्री को हरी झंडी दिखाना कहाँ तक सही है? क्या जो लोग सब्जी की दुकानों में ठीक तरह से सोशल डिस्टेंडिंग का पालन नहीं कर पाते वो क्या शराब के ठेके में दारू लेते समय इस मर्यादा का पालन कर सकेंगे?या फिर दारू बिकवाने सरकार को पुलिस बल लगाना पड़ेगा

टूट पड़ेंगे लोग

वहीँ लगभग डेढ़ महीने की शराबबंदी के बाद कल 4 मई से शराब दुकानों को खोलने के निर्देश सरकार ने कुछ नियम शर्तो के तहत के तहत दे दिए है ,जिसके विरोध में सोशल मीडिया में लोग सरकार के इस आदेश का विरोध कर रहे है ,कुछ लोगों का तर्क है की स्कूल कालेज ,बंद और शराब गुटखा सिगरेट की दुकानें चालू कर दी गई,इससे अभी तक जो लोग लॉक डाउन का पालन करते घर पर ही पड़े थे वे टुन्न होकर सड़क में निकल पड़ेंगे

पीने वाले गरीबों का क्या होगा ?घरों में होंगे झगड़े

वहीँ देखा जाए तो लॉक डाउन के दोरान सरकार व सामाजिक संगठनों द्वारा जिन गरीबों की मदद की गई और उन्हें राशन ,खाना के साथ सरकार द्वारा उनके खातों में पैसे भी डाले गए ताकि इस संकट की घड़ी में कोई भी भूखा न सोये लेकिन जब शराब के ठेके सुरु हो जाएंगे तो ये ही गरीब बच्चों के मुंह का निवाला छीनकर दुकानों में बेंचकर या कुछ पैसे जो घर पर रखे है पत्नी से झगड़कर उससे शराब खरीदेंगे ,इससे न केवल भुखमरी बढ़ने की आशंका होगी बल्कि घरों में झगड़े भी तेजी से बढ़ेंगे साथ ही लॉक डाउन 1.0 व 2.0 के दौरान जो अपराधों का ग्राफ कम हुआ था वह शराब के ठेके खुलने से  फिर से बढ़ जाएगा

पुलिस प्रसासन की होगी मुसीबत

वैसे भी जब से कोरोना संकट काल सुरु हुआ है तबसे लेकर आजतक पुलिस व प्रसासन के अधिकारियों ने रात दिन एक कर कुछ सख्ती दिखाकर तो कुछ प्रेम से लोगों को लॉक डाउन व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने में काफी हद तक सफलता पा ली थी लेकिन जो लोग बिना पिये ही लॉक डाउन तोड़ते थे अब वे टुन्न होकर क्या -क्या न करेंगे ?जो की एक चिंता का विषय है क्योंकि देश मे कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या घटने का नाम नहीँ ले रही है ,यदि आकड़ो की मानें तो प्रतिदिन 1हजार मरीजों का इजाफा हो रहा है ,तो वहीँ मध्यप्रदेश के हाल भी कोरोना में कुछ ठीक नहीँ है ,अब ऐसे में शराब के ठेके खोलने का निर्णय कहाँ तक सही है?

शराब बिक्री को लेकर सरकार ने जारी किए थे ये निर्देश

लॉकडाउन 3.0 के दौरान सरकार द्वारा सभी जोन में शराब की अनुमति दी गई है. इसके साथ ही पान मसाला, गुटखा और तम्बाकू को बेचने की इजाजत भी दी गई है. हालांकि सिर्फ कंटेनमेंट जोन में ही शराब की बिक्री पर पाबंदी रहेगी. साथ ही शराब की बिक्री सिर्फ एकल दुकानों पर ही की जा सकेगी.फिलहाल शराब की बिक्री मॉल्स और मार्केटिंग कॉम्प्लेक्स में नहीं की जा सकेगी. यहां शराब की बिक्री पर पाबंदी जारी रहेगी. वहीं शराब, पान मसाला, गुटखा और तम्बाकू का सार्वजनिक जगहों पर सेवन नहीं किया जा सकेगा. सार्वजनिक जगहों पर इनका सेवन करने पर रोक रहेगी.

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा जरूरी

केंद्र सरकार द्वारा जारी निर्देशो के मुताबिक जो दुकानें शराब-पान मसाले की बिक्री कर रही हैं, वो ये सुनिश्चित करेंगी कि लोगों के बीच में 6 फीट की दूरी रहे और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाया जाए. साथ ही दुकानों को इस बात को भी सुनिश्चित करना होगा कि एक वक्त में दुकान पर पांच से ज्यादा लोग न हों

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close