धर्ममध्य प्रदेश

गरुपूर्णिमा व चन्द्रग्रहण एक साथ इस दिन इन मंत्रों का करें जप

 

 

 

ज्योतिषाचार्य निधिराज त्रिपाठी के अनुसार —आवश्यक सूचना

🌹 *गुरुपूर्णिमा 5 जुलाई 2020 के दिन चंद्रग्रहण और विद्यालाभ का योग भी है।*

🌹 *5 जुलाई दिन रविवार को लगने वाला यह चंद्रग्रहण उपछाया चंद्रग्रहण है, जिसमें सूतक अथवा ग्रहण के कोई भी नियम पालनीय नहीं होते हैं।*

🌹 *भारत के समयानुसार ग्रहण काल समय – सुबह 08:37 बजे से 11:23 तक।*

🌹 *यह ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा । अमेरिका, मैक्सिको, कनाडा की तरफ ही आंशिक रूप से दिखेगा ।*

🌹 *देश या विदेश में इस ग्रहण के नियम पालनीय नहीं हैं । ग्रहण के समय जप-ध्यान करने से पुण्य लाभ होता है ।*

🌹 *पूज्य बापूजी ने पहले भी हमें बताया था कि ग्रहण में जप करना है इसलिए इस चन्द्र ग्रहण में सभी भाई-बहनें अधिक से अधिक जप करें।*

🌹 *विद्यालाभ व अद्भुत विद्वत्ता की प्राप्ति का उपाय*

🌹 *मंत्र : ‘ॐ ऐं ह्रीं श्रीं क्लीं वाग्वादिनि सरस्वति मम जिह्वाग्रे वद वद ॐ ऐं ह्रीं श्रीं क्लीं नमः स्वाहा ।’*

🌹 *इस मंत्र को 5 जुलाई को रात्रि 11:02 से 11:45 बजे तक या 6 जुलाई को प्रातः 3:00 बजे से रात्रि 11:12 तक 108 बार जप लें और फिर मंत्रजप के बाद उसी दिन रात्रि 11 से 12 बजे के बीच जीभ पर लाल चंदन से ‘ह्रीं’ मंत्र लिख दें ।*

जिसकी जीभ पर यह मंत्र इस विधि से लिखा जायेगा उसे विद्यालाभ व अद्भुत विद्वत्ता की प्राप्ति होगी ।

आप अपनी हर समस्या के समाधान हेतु हम से संपर्क कर सकते हैं l ज्योतिषाचार्य निधि राज त्रिपाठी
9302409892

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close