जुए में हुई हार के कर्जे को चुकाने रची थी मासूम के अपहरण की साजिश असफल होने पर कर दी थी हत्या

शेयर करें:

जबलपुर ,चरगवां थाना क्षेत्र में हुई 10 वर्ष के मासूम की हत्या के मामले में पुलिस ने खुलासा करते हुए 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है आज कंट्रोल रूम में पत्रकार वार्ता आयोजित कर एसपी निमिष अग्रवाल ने बताया की दिनांक 08/04/19 को थाना चरगंवा में सतनाम गिरी गोस्वामी निवासी ग्राम सगडा द्वारा रिपोर्ट की गई कि उसका भतीजा बादल गिरी गोस्वामी उम्र 10 वर्ष के अज्ञात व्यक्तियों द्वारा अपहरण करने की आशंका पर अपराध क्रमांक 133/19 धारा 363 ताहि0 का पंजीबद्व कर विवेचना में लिया गया था। दौरान विवेचना के दिनांक 11/04/19 को रामजी श्रीपाल के खाली पडे मकान के अंदर गलियारे में प्लास्टिक की बोरी के अंदर अपहृत बालक बादल गिरी गोस्वामी की लाश बिजली के तार से बंधी मिलने से प्रकरण में धारा 364,302,201 भादवि बढाई गयी।प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए आदेशित किया गया गया था जिसमें अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) डॉ0 रायसिंह नरवरिया के निर्देषन में नपुअ बरगी रवि सिंह चौहान के पर्यवेक्षण में थाना प्रभारी चरगंवा उप निरीक्षक नितिन कमल, थाना प्रभारी ओमती श्री नीरज वर्मा एवं थाना प्रभारी शहपुरा घनष्याम सिंह मर्सकोले एवं सायबर सेल की टीम व थाना चरगंवा के स्टाफ की एक विशेष टीम विवेचना हेतु गठित की गयी।

जुए में हो गया था कर्ज तो उठाया ये हत्या का कदम

वहीँ पुलिस की मानें तो विवेचना के दौरान गांव के महिला व पुरूष व बच्चों से लगातार सघन पूछताछ की गई एवं बालक बादल की पतारसी के लिए निरंतर तलाशी अभियान चलाया गया। बालक के आने जाने के रास्ते पर लोगों से बारीकी से पूछताछ कर पतारसी की गई। ग्रामीणजनो से बारीकी से की गई पूछताछ के आधार पर संदेही मुकेश श्रीपाल से सघन पूछताछ की गई तो उसने बताया कि मैं एवं गुडडु उर्फ मनोहर लाल तिवारी तथा अनिल उर्फ अन्नू गिरी गोस्वामी जुआ खेलने एवं शराब पीने के आदि हैं तीनों ही अभी हाल ही में गोटेगॉव जिला नरसिंहपुर में जुआ में बडी रकम हार कर कर्ज में दबे हुए हैं कर्ज से उबरने के लिए तीनों के द्वारा सुनियोजित षणयंत्र रचकर फिरोती की रकम वसूलने के नियत से दिनांक 08/04/19 को प्रातः लगभग 10ः45 बजे मुन्ना सेठ की दुकान के पास से मृतक बादल गिरी गोस्वामी जो कि इन तीनों से पूर्व से भंलिभांति परिचित है, बहला फुसलाकर ले गये तथा लाखन गौंड के सूने पडे मकान पर ले जाकर आरोपीयों द्वारा बादल को छुपाकर हाथ पैर व मुंह बांधकर रखा गया एवं इसी बीच बादल के पिता एवं परिवारजन व गांव के लोगों द्वारा सक्रियता से ढूढने पर आरोपीगण घबरा गये तथा मुंह दबाकर हत्या कर देना बताया दिनांक 09/04/19 को तथा दिनांक 10/04/19 को ग्रामीणजन एवं पुलिस द्वारा लगातार गांव एवं आसपास के क्षेत्र में बादल की तलाश के प्रयास किये गये। रात में लगभग दो-ढाई बजे जब ग्रामीणजन एवं पुलिस की सक्रियता कम हो गई थी, आरोपी गण गुडडु तिवारी, मुकेश श्रीपाल तथा अनिल उर्फ अन्नू गोस्वामी तीनों गुडडु तिवारी की मोटर सायकिल टी.व्ही.एस. से लाश को नर्मदाजी में फैंकने की नियत से लाखन गौंड के मकान से निकले किन्तु लोगों की चौकसी को देखकर लाश को गांव से बाहर न ले जा सके मजबूर होकर तुरंत रामजी श्रीपाल के सूने पडे मकान के अंदर गलियारे में लाश को छिपा दिये। आरोपीगण लगातार लाश को ठिकाने लगाने की फिराक में थे किंतु लोगों की सक्रियता के चलते ये लोग लाश को ठिकाने न लगा सके और दिनांक 11/04/19 को रामजी श्रीपाल के मकान से बदबू आने से मृतक के परिजन तथा गांव के लोगों ने वहां जाकर देखा तो बालक बादल की लाश मिली।उल्लेखनीय है कि प्रकरण की गम्भीरता को दृष्टिगत रखते हुये अज्ञात आरोपियो की गिरफ्तारी पर पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन, जबलपुर विवेक शर्मा (भा.पु.से.) द्वारा 25 हजार रूपये का नगद पुरूस्कार उद्घोषित किया गया था।

ये है गिरफ्तार आरोपी :

गिरफ्तार आरोपीयों में से गुडडु उर्फ मनोहर लाल तिवारी निवासी ग्राम सगडा के द्वारा बर्ष 2008 में अप्रेल माह मे भी मृतक अज्जू उर्फ भूरा लोधी पिता हाकम सिंह निवासी बिजौरी थाना चरगंवा की अपहरण कर न्यू भेडाघाट नर्मदा नदी के किनारे अपने अन्य साथी दिनेश उर्फ दिन्नू राय एवं छुट्टू यादव सर्व निवासी जमुनिया थाना चरगंवा के द्वारा गला दबाकर हत्या कर लाश को पत्थर की खदान में रखकर जला दिया था एवं मृतक के पहने हुए कपडों को घुघरा नाले में फैंक दिया था । इस प्रकरण में तीनों आरोपीयों की गिर0 कर न्याया में चालान पेश किया गया था । मान0 सत्र न्याया0 से तीनों आरोपीयों को उम्र केद एवं 5000-5000 हजार रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया था , जो वर्तमान में मान0 उच्च न्याया0 जबलपुर के आदेश से जमानत पर है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) डॉ0 रायसिंह नरवरिया एवं नपुअ बरगी रवि सिंह चौहान के कुशल मार्ग निर्देशन में आरोपियों को गिरफ्तार करने में थाना प्रभारी चरगंवा उप निरीक्षक नितिन कमल, थाना प्रभारी ओमती नीरज वर्मा एवं थाना प्रभारी शहपुरा श्री घनष्याम सिंह मर्सकोले, एवं एफ.एस.एल. , सायबर सेल, क्राईम ब्रांच, टीम का विशेष योगदान रहा है।