जरा हटकेमध्य प्रदेश

टीआई का फरियादी को धमकाकर सरकार गिराने की धमकी देते हुए, आडियो वायरल

ढीमरखेड़ा( मनोज यादव ) :ढीमरखेड़ा थाना के टीआई एनके पांडेय का सनसनीखेज आडियो सामने आया है। टीआइ फरियादी की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय उसे धमकाया जा रहा है। टीआइ साफ धमकी दे रहे हैं कि इतने मामले लगा दिए जाएंगे कि सरकार निपट जाएगी। टीआइ ने कहा कि पूरे हरिजन आदिवासी आए थे। आदिवासियों की सुनवाई पहले होगी। उपचुनाव हैं अभी। बात समझ जाओ नहीं तो एक मिनट के अंदर निपट जाएगी सरकार, तुम हमको अभी नहीं जानते, गुप्ता के यदि ताकत हो तो आकर कब्जा कर ले, इतना पिटवाएंगे की वह भूल जाएगा, आदिवासियों के साथ मारपीट की। 500 आदमी आ गए थे डंडा फरसा लेकर आ गए थे फर्जी खेती बाड़ी में। हमारे पास जमीन के पुराने रिकार्ड आ जाएं, वह जमीन गौठान और शासकीय है। गर्ग पटवारी ने तहसीलदार, एसडीएम ने मिलकर लाखों रुपये लेकर दूसरों के नाम पर पलटाकर दिल्ली वालों को दे दी। हमको न सिखाओ। प्रधानमंत्री के टच में है तो कोई दिक्कत नहीं, हम तो कहते हैं अमेरिका के राष्ट्रपति के टच में रहे। यह बातचीत ग्राम तिलमन में संचालित सुनीता गुप्ता के फार्महाउस का काम देख रहे प्रभात पांडेय के बीच हुई बातचीत का है। हां के कर्मचारी श्रीकांत बडग़ैंया के साथ 8 जुलाई को गांव के 12 लोगों ने मारपीट कर तोडफ़ोड़ व आगजनी की थी। इसकी शिकायत ढीमरखेड़ा थाने में की गई, लेकिन कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं हुई। मामले की शिकायत पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार से भी की गई है।

यह भी हुई बात


जब प्रभात ने कहा कि काम तो आप से होना है तो टीआइ ने कहा कि हम तो ऐसा कर देंगे कि सब भूल जाओगे, इतनी धाराएं ठोक देंगे कि सब भूल जाओगे। तुम बीच में थे इसलिए कुछ नहीं किया। प्रभात ने कहा कि आपसी में आपसे बात कर रहा हूं, घर का बड़ा भाई समझता हूं, तुम आओ बैठकर समाधान करेंगे। हमको हिन्दुस्तान की किसी हस्थी का डर नहीं है। प्रभात ने कहा कि मैटर निपटा दीजिए तो टीआइ बोले पोलायटी मैटर निपटाओ, हमारी संभावना है कि निपट जाएगा, शांतिपूर्ण तरीके से निपाटाओ, केस से मामले नहीं निपटते, 10 मामले दर्ज करेंगे, दिल्ली से आदिवासी आयोग चढ़ बैठेगा, इससे नहीं निपटेगा। बात बैठकर बनेगी। 5-7 आदमी को बुलाकर उनको अपने कब्जे में लेंगे। आदिवासी विनम्रता से से आ जाएंगे। ल_ दिमाग होता है। रिकॉर्ड नहीं जानते। आदिवासियों को प्यार से घुमाना पड़ता है।

मैं आपके पास आलम को भेजता हूं


टीआई ने कहा कि नहीं हम कटनी में बैठकर बात करेंगे। वहीं आलम और सेठ को बुलाओ। आदिवासी समुदाय के लोगों को थाने में बुला लेंगे। केस, कचहरी से कोई मतलब नहीं रहता।
आप हमारे हैं हमारा साथ देंगे, आप जब धमकी दोगे तो दिमाग सही हो जाएगा। ज्यादा खुरापाती तत्व हैं उनको हिसाब से देंखेंगे। आलम, गुप्ता जाने, तुम्हारा फायदा हो जाए वह देखेंगे। बीच में मैडम को मत डाला करो। तुम पोलायटी बात करते हो तुम्हारा भी फायदा हो यहां भी फायदा हो। वह तो कहती है कि सोनिया गांधी के बाजू में जाकर बैठती है। कहती है सोनिया गांधी के हर दो दिन में फोन आते हैं। कोर्ट कचहरी में नहीं जाना, अपने को अपना फायदा देखना है। ऐन, केन, प्रकारेण मामले को निपटाते हैं।

इनका कहना है,


आरोप निराधार हैं। मामले में जांच जारी है। बैठकर समस्या समाधान कराने की बात हुई है। धमकी नहीं दी गई। जमीन के दस्तावेज मंगाए गए हैं, जांच जारी है।
एनके पांडेय, टीआइ ढीमरखेड़ा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close