बड़ी खबरमध्य प्रदेश

नहरों के मेंटिनेश के नाम पर गोलमाल,

जबलपुर :नहर विभाग की लापरवाही के चलते नहरों के रखरखाव की निगरानी के लिए गठित जल उपभोक्ता संस्था के निर्वाचित अध्यक्षों को उनके अधिकार एवं कर्तव्यों की जानकारी प्रदान करने में संस्था सचिव की हिला हवाली से नहरों का जीर्णोद्धार नहीं हो पा रहा है,


प्राप्त जानकारी के अनुसार जल उपभोक्ता संस्था के अध्यक्ष एवं सचिव संस्था अंतर्गत कसवे की नहर का रखरखाव के साथ-साथ नहर से किसानों को पानी देने के लिए कुल आवे से खेत तक पहुंचाने की व्यवस्था सुनिश्चित कराने जैसे मुख्य कार्यों को संपन्न कराने तथा निर्माण कार्यों की निगरानी करना मुख्य कार्य है इसके लिए ₹25000 प्रति हेक्टेयर के हिसाब से शासन जल उपभोक्ता संस्था के खाते में राशि जमा कराती है संस्था का सचिव जो कि विभाग का सब इंजीनियर होता है एवं अध्यक्ष मिलकर हर किसान के खेत तक पानी सुनिश्चित रूप से पहुंचाने कार्य योजना बनाकर उसे कार्य रूप में परिणत कर आते हैं इसके अलावा रवि एवं खरीफ फसल के दौरान भी संस्था को राशि आवंटित की जाती है किंतु संस्था के सचिव अध्यक्षों को जानकारी ना देकर रखरखाव कार्य में जमकर अनियमितता बरत रहे हैं


अध्यक्ष पद के औचित्यय पर उठ रहे सवाल


जल उपभोक्ता संस्था गजनी के अध्यक्ष देवीलाल ने बताया कि संस्था अंतर्गत पचपेड़ी डिसटीब्यूटरी रहता कमरिया रे ओझा माइनर दर्शनी माइनर खेरवा माइनर पिपरिया टोल बूढ़ी माइनर दर्शनी डायरेक्ट कैनाल आदि आती हैं उक्त माइनर कैनाल के रखरखाव सहित अन्य कार्यो में गुणवत्ता ही सामग्री का प्रयोग कर अनियमितता बरती जा रही है जिसका खामियाजा नहर फूटने पर किसानों को भोगना पड़ सकता है
अध्यक्ष ने आरोप लगाया है कि जब सचिव से नर्मदा विकास प्राधिकरण क्रमांक 4 अंतर्गत लहरों के कार्यों की जानकारी मांगी गई तो सचिव ने सूचना के अधिकार के तहत आवेदन कर प्रस्तुत करने का फरमान जारी कर दिया यदि निर्माण कार्य करा रही एजेंसी के अध्यक्ष को सूचना के अधिकार का सहारा लेना पड़ेगा तो आम किसानों की क्या फजीलत होगी इसका अंदाजा संबंधित सचिव की कार्यप्रणाली से लगाया जा सकता है ज्ञात हो किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य संस्था के प्रस्ताव एवं अनुमोदन के बाद प्रारंभ किया जाता है किंतु संस्था के अध्यक्ष को इसकी जानकारी ना देना अनेक प्रश्नों को जन्म दे रहा है,


इनका कहना है,
शासन द्वारा राशि आवंटित की जाती है जिससे हर किसान के खेत तक पानी पहुंचाना का कार्य जल उपभोक्ता संस्था द्वारा किया जाता है यदि किसी अध्यक्ष को कोई समस्या आ रही है तो वह सीधे मुझसे संपर्क कर सकता है
एमकेढिमोले

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close