जरा हटकेमध्य प्रदेश

नाम बड़े और दर्शन छोटे:सिहोरा का 100 विस्तर का अस्पताल बना सिर्फ रिफर सेंटर,क्या यही है विकाश? 

जबलपुर:मध्यप्रदेश में जिसकी भी सत्ता रही सभी ने जनता से यही वादा किया की हम जगह -जगह अस्पताल खुलवाएंगे डॉक्टरों की कमी नहीँ होने देंगे तमाम तरह के जनता से वादे किए गए लेकिन क्या वास्तव में सरकार ने अपने वादों को पूरा किया? या नहीँ इसका जीता जागता उदाहरण सिहोरा का 100 बिस्तरों का यह अस्पताल है, जहाँ पर हमेशा ही डॉक्टरों की कमी बनी रहती है, इस कमी को दूर करने के लिए वादे तो किये गए लेकिन आज भी अपनी ही समस्याओं से बीमार है सिविल अस्पताल, जिसको  इलाज के लिए न तो  भरपूर स्टॉप मिल पा रहा न ही आधुनिक मशीनरी,वैसे तो सिहोरा में जनता की मांग को देखते हुए सरकार ने 100 बिस्तर का अस्पताल तो बना दिया लेकिन सुविधायों के नाम पर यहाँ कुछ भी नहीँ है, कहने को तो 24 घँटे यहाँ पर इलाज किया जाता है लेकिन मशीनरी और मूलभूत सुविधाओं और  डॉक्टरों के अभाव के चलते सौ बिस्तर का यह अस्पताल सिर्फ और सिर्फ रिफर सेंटर बनकर रह गया है, जो कभी स्टॉप की कमी से जूझता है तो कभी मशीनरी के अभाव में यहाँ पर मरीज परेसान होते है,
प्रतिदिन इलाज करवाने आते है यहाँ सैकड़ो मरीजों
वैसे तो सिहोरा से एनएच सड़क लगी होने से यहाँ पर आएदिन सड़क दुर्घटनाओं का शिकार होकर इलाज के लिए मरीजों की लंबी कतार लगी रहती है तो वहीं सिहोरा सहित इसके समीपी तहसील मंझोली बहोरीबंद व उमरियापान कटनी तक के अधिकांश मरीज इलाज करवाने यहाँ पर आते है ,लेकिन नाम बड़े और दर्शन छोटे इस अस्पताल में भरपूर इलाज न मिलने से उन्हें जबलपुर रिफर कर दिया जाता है,
यहाँ पर अभी इन सुविधाओं का अभाव ,
सौ विस्तर के इस अस्पताल में न तो आई.सी.यू.बार्ड है ,न ही बेंटिलेटर,डिजिटल एक्सरे न ही सोनोग्राफी की कोई सुविधा है,न ही डॉक्टरों का भरपूर स्टॉप, नागरिकों ने इन सभी सुविधाओं की अस्पताल के लिए मांग की है,ताकि जो लोग इन सुविधाओ के अभाव में जबलपुर में परेसान होते है, उन्हें यहीं पर इलाज मिल सके,

क्या है अस्पताल में स्टॉप की स्तिथि ,

प्राप्त जानकारी के मुताबिक सिविल अस्पताल सिहोरा में 21 डॉक्टरों का स्टॉप होना चाहिए लेकिन वर्तमान में केवल 7 डॉक्टर है, जिसमें 4 परमानेंट डॉक्टर है तो 3 कोरोना काल मे लगाए गए टेम्परेडी डॉक्टर ,एक डॉक्टर कोरोना पॉजीटिव होने के बाद छुट्टी पर चल रहे है, जिनकी ड्यूटी का अतिरिक्त भार भी अन्य डॉक्टरों पर पड़ रहा है, साथ ही यहाँ पर बार्ड बॉय के नाम पर सिर्फ 1 बार्ड बॉय है, फार्मेसिस्ट 1 तो नर्स की संख्या 25 होनी चाहिए लेकिन यहाँ पर सिर्फ 15 नर्स है, इसके अलावा भी देखा जाए तो एक्सरे टेक्नीशियन 5 माह से नहीं है ,जो थी तो वह सस्पेंड चल रही है,इतना ही नहीँ इन सब समस्याओं को विभाग के बड़े अधिकारी व नगर के जनप्रतिनिधि अच्छी तरह जानते है, उसके बाद भी इन समस्यायों को हल करने का किसी भी की तरफ प्रयास नहीँ किया जा रहा ,जिसकी खामियाजा गरीब जनता को भोगना पड़ रहा है,

इनका कहना है, सरकार यदि स्टॉप और मशीनरी अस्पताल में भरपूर दे दे तो किसी भी मरीज को रिफर करने की जरूरत नहीँ पड़ेगी सभी का यहीं पर इलाज यहीं पर संभव हो जाएगा ,
सिहोरा सिविल अस्पताल प्राभारी,डॉक्टर आर .पी. तिर्पाठी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close