बाढ़ और आपदा प्रबंधन की बैठक में कलेक्टर के अधिकारियों को निर्देश

शेयर करें:

बाढ़ और जलप्लावन की स्थिति से निपटने सभी जरूरी कदम उठाए जाएं

जबलपुर : कलेक्टर श्री भरत यादव ने वर्षा काल के दौरान बाढ़ और जलप्लावन की स्थिति से निपटने तथा प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य के संचालन के लिए सभी जरूरी प्रबंध करने के निर्देश संबंधित विभागों के अधिकारियों को दिए हैं।
श्री यादव बाढ़ की स्थिति से निपटने एवं आपदा प्रबंधन की तैयारियों की समीक्षा के लिए आज आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में संपन्न हुई इस बैठक में पुलिस अधीक्षक अमित सिंह भी मौजूद थे। कलेक्टर ने बैठक में बाढ़ और जल प्लावन वाले क्षेत्रों में राहत शिविरों के लिए सुरक्षित स्थान चिन्हित करने की आवश्यकता भी बताई। उन्होंने कहा कि राहत शिविर के लिए चिन्हित क्षेत्रों में खाद्यान्न और दवाओं का भण्डारण भी सुनिश्चित कर लिया जाए। इसके साथ ही ऐसे क्षेत्रों में जल स्त्रोतों की साफ-सफाई के कार्य भी समय रहते पूरे कर लिए जाने चाहिए।कलेक्टर ने राहत एवं बचाव कार्यों के लिए सभी विभागों एवं एजेंसियों के बीच बेहतर समन्वय की आवश्यकता बताई। उन्होंने अधिकारियों को एक दूसरे से निरंतर संपर्क में रहने तथा सूचना तंत्र को मजबूत बनाने की सलाह भी दी। श्री यादव ने कहा कि हमारी तैयारियां जितनी अच्छी होंगी आपदा में होने वाले नुकसान उतना ही कम किया जा सकेगा। श्री यादव ने बाढ़ और जल प्लावन की स्थिति में पशुओं के उपचार एवं दवाओं की समुचित व्यवस्था करने के निर्देश भी बैठक में दिए।
कलेक्टर ने राहत एवं बचाव कार्य के संचालन के लिए मोटर वोट, नाव एवं अन्य आवश्यक उपकरणों की उपलब्धता भी चिन्हित क्षेत्रों में सुनिश्चित करने की हिदायत दी। उन्होंने इन उपकरणों की जांच करने और आवश्यक होने पर समय रहते उनकी मरम्मत करा लेने का सुझाव भी अधिकारियों को दिया।
कलेक्टर ने जिला एवं खण्ड स्तर पर बाढ नियंत्रण कक्षों की स्थापना के लिए निर्देश भी बैठक में दिए। उन्होंने जबलपुर सहित जिले के सभी नगरीय निकायों में नाले-नालियों की बारिश पूर्व साफ-सफाई का काम पूरा करने पर बल दिया। श्री यादव ने ग्रामीण क्षेत्रों के ऐसे नदी-नालों को भी चिन्हित करने के निर्देश दिए जो बारिश में उफान पर आ जाते हैं। कलेक्टर ने ऐसे नदी नालों पर बने पुल-पुलियों पर विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश भी दिए और इन पर चेतावनी वाले सूचना फलक लगाने की हिदायत दी।
बैठक में कलेक्टर ने बाढ़ की स्थिति में राहत शिविरों के संचालन के लिए चिन्हित किए गए स्थानों पर बिजली पानी की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए। श्री यादव ने बरगी बांध परियोजना के अधिकारियों को बांध से पानी छोड़ते वक्त निचले इलाकों के रहवासियों को सतर्क कराने के लिए घाटों और डूब में आने वाले क्षेत्रों में समय रहते मुनादी करने के निर्देश दिए।
श्री यादव ने बाढ़ एवं जल प्लावन की स्थिति से निपटने के उपायों के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने की जरूरत भी बताई। उन्होंने सभी अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्र में बाढ़ नियंत्रण की की तैयारियों की समीक्षा करने के निर्देश दिए। श्री यादव ने जिला स्तर पर आपदा प्रबंधन की कार्ययोजना तैयार करने तथा राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को भेजे जाने की बात भी कही। पुलिस अधीक्षक श्री अमित सिंह ने बैठक में राहत एवं बचाव कार्यों के प्रभावी संचालन के लिए पूर्व में बाढ़ एवं जल भराव से प्रभावित हुए क्षेत्रों के जनप्रतिनिधियों एवं नागरिकों से चर्चा करने का सुझाव दिया। ताकि उनके अनुभवों के आधार पर बेहतर प्लानिंग की जा सके। पुलिस अधीक्षक ने बाढ़ की संभावना वाले क्षेत्रों में स्थानीय गोताखोरों को चिन्हित करने पर भी बल दिया। श्री सिंह ने कहा कि राहत कार्यों के प्रभावी संचालन के लिए प्रत्येक अधिकारी को उपलब्ध संसाधनों के बारे में जानकारी होना भी आवश्यक है। पुलिस अधीक्षक ने जल प्लावन और बाढ़ की संभावना वाले क्षेत्रों में लगातार बारिश होने पर सतर्क रहने और आवश्यक इंतजाम जुटाने की कार्यवाही प्रारंभ कर देने का सुझाव भी अधिकारियों को दिया।