अपराधमध्य प्रदेश

बीएसएनल कंपनी से बोल रहा हूँ सिम पोर्ट करनी है,और खाते से पार कर दिए रुपये

जबलपुर :फोन पर फ्राड करने वाले हर बार नए नए तरीकों से लोगों को लालच देकर उन्हें लूट लेते है, अतः सावधान रहने की जरूरत है, किसीको भी अपनी गोपनीय जानकारी न दें और सावधान रहें तभी जाकर आप इन फ्राड करने वालो के चक्कर से बच सकते है,ताजा मामला जबलपुर शहर का है जहां पर बीएसएनल कंपनी का कर्मचारी बताकर सिम पोर्ट करने के नाम पर कुछ ही समय मे फ्राड करने वाले आरोपी ने खाता से पैसे पार कर दिये

सिम पोर्ट के नाम पर ठगी

पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक थाना अधारताल में दिनॉक 6-6-2020 को श्रीमति श्यामा गुप्ता उम्र 42 वर्ष निवासी व्हीकल मोड महाराजपुर ने लिखित शिकायत की कि दिनॉक 19-5-2020 को दोपहर लगभग 12 बजे उसके मोबाईल एक मोबाईल नम्बर से कॉल आया मोबाईल धारक ने कहा मै बीएसएनएल कम्पनी से बोल रहा हूॅ आपकी बीएसएनएल सिम को एयरटेल में पोर्ट करने के लिये एक्टीवेट करना पडेगा तब सिम चालू होगी, उसने एक मोबाईल नम्बर का मैसिज भेजा और बोला कि उक्त नम्बर पर फावर्ड करो, उसने फावर्ड कर दिया , फिर एक लिंक भेजा जिसे खोलकर  उसमे जानकारी भरकर भेजते हुये अपने एकाउंट से 1 रूपये कटवाना था तो उसने नाम, मोबाईल नम्बर, यूपीई पिन डायल करके भेज दिया उसके बैंक एकाउंट से 1 रूपये कट गये कुछ देर बाद उसके एकाउंट से 3 हजार रूपये फिर 1 हजार रूपये निकाले गये, उसने उक्त नम्बर पर कॉल कर कहा तो उससे कहा गया कि 24 घंटे कें पहले रूपये वापस आ जायेगे, संदेह होने पर पता किया तो ज्ञात हुआ कि उक्त सिम वैस्ट बंगाल कलकत्ता मोमरेजपुर की है , उक्त व्यक्ति द्वारा  फोन कर पुनः कहा कि लिंक भेज रहा हूॅ जिसे भरकर भेजो तो तुम्हारे एकाउंट में 4 हजार रूपये वापस आ जायेंगे। उक्त व्यक्ति ने जियो कम्पनी के मोबाईल नम्बर से व्हाट्सअप पर बात की है।

बीएसएनल कंपनी से बोल रहा हूँ

वहीं आरोपी ने खुद को बीएसएनल कम्पनी का कर्मचारी बताते हुए फोन पर बोला की में बीएसएनल कंपनी से बोल रहा हूॅ कहते हुये सिम पोर्ट करने हेतु लिंक भेजकर जानकारी मांगवाकर उसके एकाउंट से रूपये निकालकर धोखाधड़ी की है।पुलिस ने फरियादी की शिकायत पर अज्ञात के विरूद्ध धारा 420 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर मामले की जांच सुरु कर दी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close