बड़ी खबरमध्य प्रदेश

बेंड संचालक की मौत पर परिजनों का आरोप,लापरवाह अस्पताल ने ले ली जान

जबलपुर :कहते है बीमार व्यक्ति के लिए डॉक्टर ही भगवान होता है लेकिन यहाँ पर एक व्यक्ति की मौत पर परिजनों ने अस्पताल को जान बचाने नहीं बल्कि लूट खसूट कर पैसे बनाने का आरोप लगाते हुए,व्यक्ति की मौत का जिम्मेदार अस्पताल को बता रहे है,

ये है पूरा मामला

प्राप्त जानकारी के मुताबिक कोरोना से संक्रमित हुए अंतर्राष्ट्रीय विशाल बैंड के संचालक युवा कलाकार मनीष मावजी की लाइफ मेडिसिटी हॉस्पिटल में सोमवार तथा मंगलवार की दरमियानी रात मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि हॉस्पिटल प्रबंधन ने 8 लाख रुपए खर्च करा दिए, लेकिन सही उपचार तक प्रदान नहीं किया। घटना से आक्रोशित परिजनों व साथियों ने अस्पताल के समक्ष जमकर हंगामा किया तथा एफआईआर दर्ज करने की मांग की। मृतक के परिजनों ने बताया कि मनीष ने गत शाम कॉफी पी और परिजनों से डिस्चार्ज करवाने के लिए कहा। इसके बाद परिजन थोड़ी देर में डिस्चार्ज करवाने का कहकर घर चले गए। इसके 1 घंटे बाद जब परिजन हॉस्पिटल आए तो ड्यूटी डॉक्टर्स ने मनीष के आॅक्सीजन लेवल घटने पर उसे आईसीसीयू में शिफ्ट करने की जानकारी दी। जहां जाकर परिजनों ने देखा तो मनीष वेंटिलेटर पर थे, उनकी नाक से पानी निकल रहा था। कुछ देर बाद जानकारी लगी कि नर्स ने आॅक्सीजन सिलेंडर गलत तरीके से लगा दिया है, जिसके कुछ देर बाद मनीष ने दम तोड़ दिया। परिजनों का आरोप है कि हॉस्पिटल में इलाज में भारी लापरवाही बरती गई।

लाखों हो गए खर्च,

मनीष के परिजनों ने बताया कि पिछले बीस दिनों से मनीष अस्पताल में भर्ती थे, उन्हें निमोनिया की शिकायत के चलते भर्ती कराया गया था। इस दौरान अस्पताल में लाखों रुपए का बिल बना दिया गया। बताया तो यह भी जा रहा है कि 7 लाख रुपए का बिल अस्पताल द्वारा बनाया गया है।परिजनों का कहना है की बुखार आने पर मनीष मावजी को 20 दिन पूर्व 8 सितंबर को आगा चौक स्थित लाइफ मेडिसिटी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था। गोपाल सदन निवासी मनीष कोरोना संक्रमण से तो मुक्त हो गए, लेकिन लापरवाही के चलते वे स्वस्थ होने के बजाय मौत के मुंह में चले गए। वेंटिलेटर और आॅक्सीजन का लेवल तक अस्पताल में चेक नहीं किया गया, जिसके कारण की उनकी नाक से पानी निकलने लगा था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close