अपराधमध्य प्रदेश

मंझोली में हुई अंधी हत्या का खुलासा:अवैध सबंधो के चलते प्रेमी के साथ मिलकर पत्नी ने ही कर दी थी पति की हत्या

जबलपुर :अवैध सबंधो के चलते एक महिला ने अपने ही पति की हत्या कर दी इतना ही नहीँ प्रेमी के साथ मिलकर उसके शव को ठिकाने भी लगा दिया , मझोली थाना अंतर्गत हुई अंधी हत्या का खुलासा,करते हुए पुलिस ने आरोपी पत्नी व उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है ,

पति की हत्या करने के बाद खुद थाना पहुँचकर की थी रिपोर्ट

इतना ही नहीँ इस अंधी हत्या का खुलासा करते हुए पुलिस की जांच में यह भी सामने आया की पत्नि ने पति की हत्या करने के बाद थाना पहुँचकर गुमशुदगी की रिपोरी दर्ज करायी थी , 4 माह बाद कार नदी किनारे झाड़ियों में गुमशुदा का शव मिला था नरकंकाल, पत्नि ने ही अवैध सम्बंध के चलते  प्रेमी के साथ मिलकर हत्या कर दी थी ,
   

ये है पूरा मामला

पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक मझौली थाना मे दिनांक 17-12-2019 को अर्चना प्रधान 20 वर्ष निवासी मंधरा ने सूचना दी थी कि उसके पति अनिल उर्फ रामकरण प्रधान दिनाॅक 13/14-12-2019 की दरम्यानी रात में लगभग 00-30 बजे घर से थौड़ी देर में आ रहा हूॅं कहकर गये थे जो वापस नहीं आये थे रिपोर्ट पर गुमइसान कायम कर जांच में लिया गया,दौरान गुमइंसान जांच कें थाना मझोली में दिनांक 26-04-2020 के सुबह सूरज प्रसाद प्रधान उम्र 56 वर्ष निवासी डांेगरिया थाना सिहोरा ने सूचना दी कि उसका बेटा अनिल प्रधान उर्फ रामकरण प्रधान उम्र 22 वर्ष का अपनी पत्नी अर्चना के साथ मंधरा मझोली मे रहता है तथा मिस्त्री का काम करता है जो दिनांक 14-12-2019 को घर से रात लगभग 12 बजे निकला था घर वापस न लौटने पर पत्नि अर्चना प्रधान ने गुमशुदगी थाना मझोली मे दर्ज करायी थी तभी से तलाश कर रहे थे। दौरान तलाश के एक व्यक्ति का नर कंकाल कार नदी के किनारे रमेश चैधरी के खेत के पास झाडियों में पड़े होने की जानकारी लगने पर जाकर देखा तो एक नर कंकाल छतविक्षत पडा था, इनर, जरकिन, उनी टोपा ,चप्पल ,चड्डी के आधार पर उसके बेटे अनिल प्रधान का नरकंकाल है, पत्नि एवं अन्य के द्वारा भी अनिल प्रधान के रूप में पहचान की गयी। सूचना पर मर्ग कायम कर जांच में लिया गया,

महिला के गांव जाते ही पागलों की तरह हरकत करने लगा था प्रेमी

वहीं पुलिस की मर्ग जांच के दौरान गाॅव के लोगों ने बताया कि रामकरण उर्फ अनिल प्रधान का नरकंकाल मिलने के बाद  अर्चना प्रधान को उसके ससुर सूरज प्रधान अपने साथ गांव डुंगरिया ले गया था, अर्चना प्रधान के जाने से कपिल प्रधान का बर्ताव काफी बदल गया है, पागलों जैसी हरकत करता है । उक्त सूचना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया, पुलिस अधीक्षक जबलपुर सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा पूछताछ के सम्बंध में आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये।  अति. पुलिस अधीक्षक ग्रामीण शिवेश सिंह बघेल, एस.डी.ओ.पी. सिहोरा भावना मरावी के मार्ग दर्शन में कपिल प्रधान से सघन पूछताछ की गयी जिसने बताया कि उसके अनैतिक सम्बंध अर्चना प्रधान से थे,

आपत्तिजनक स्तिथि में देख लिया था पत्नी और उसके प्रेमी को

पुलिस द्वारा की गई जांच के दौरान यह भी तथ्य सामने आया की अनिल प्रधान ने अपनी पत्नि के साथ उसे आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था तभी से अनिल प्रधान अपनी पत्नि के साथ आये दिन वाद विवाद करता था जिस कारण अर्चना प्रधान काफी परेशान रहती थी, एवं उसे बताती थी कि पति आये दिन वाद विवाद करते हुये परेशान कर रहा है।

लोहे की मोटी राइड से पति की हत्या कर प्रेमी के साथ मिलकर शव को लगा दिया था ठिकाने

आरोपी ने अपनी प्रेमिका अर्चना प्रधान के साथ मिलकर योजना बनाई तथा योजना के अनुसार दिनाॅक 13-12-2020 की रात अनिल प्रधान को बहाना बनाकर कार नदी के किनारे ले गया,  पीछे से लुक छिपकर पहुंची अर्चना प्रधान ने बात करते समय लोहे की मोटी  राॅड से अनिल प्रधान के सिर मे वार कर दिया, जिससे कुछ की देर मे अनिल प्रधान की मृत्यु हो गयी, तो दोनों  मिलकर अनिल के शव को कार नदी के किनारे झाड़ियों में छिपा कर वापस घर आ गये थे, प्लान के मुताबिक 2 घंटे बाद अर्चना ने आवाज लगाकर घर वालों को बतायी कि पति रामकरण उर्फ अनिल प्रधान घर से गये है जो अभी तक नहीं आये है जिस पर हम सभी लोगों ने मिलकर तलाश किया, तथा अनिल प्रधान के न  मिलने पर योजना के मुताबिक अर्चना प्रधान ने पति की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करायी थी। सम्पूर्ण जांच पर श्रीमति अर्चना प्रधान उर्फ अनूपा प्रधान एंव कपिल प्रधान के विरूद्ध धारा 302, 201, 34 भादवि का पंजीबद्ध कर  श्रीमति अर्चना प्रधान उर्फ अनूपा प्रधान उम्र 21 वर्ष एंव कपिल प्रधान उम्र 20 वर्ष निवासी कुशगवाॅ मंधरा को प्रकरण में विधिवत गिरफ्तार किया जाकर घटना में प्रयुक्त राॅड जप्त करते हुये आरोपियों को मान्नीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जा रहा है।

उल्लेखनीय भूमिका,

अंधी हत्या का पर्दाफाश कर आरोपियेां को गिरफ्तार करने में थाना प्रभारी मझोली प्रभात कुमार शुक्ला, उप निरीक्षक एन.आर. सिन्हा, आरक्षक संतोष झारिया, जितेन्द्र, रामानंद, महिला आरक्षक नेहा तथा महिला थाना प्रभारी शबाना परवेज, स.उ.नि. लेखन सिंह, महिला आरक्षक माया समुद्रे की सराहनीय भूमिका रही।  पुलिस अधीक्षक जबलपुर सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) ने टीम को 10 हजार रूपये के नगद पुरूस्कार से पुरूस्कृत करने की घोषणा की है।   

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close