चुनावमध्य प्रदेश

मतगणना की तैयारियों में पूरी पारदर्शिता बरतें मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के जिला कलेक्टरों को निर्देश 

श्री कांताराव ने उप निर्वाचन आयुक्त के साथ मतगणना की तैयारियों की समीक्षा
जबलपुर : प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री व्ही.एल. कांताराव ने लोकसभा चुनाव की मतगणना के लिए की जा रही तैयारियों में पूरी पारदर्शिता बरतने के निर्देश जिला निर्वाचन अधिकारियों को दिये हैं । श्री कांताराव आज यहां आयोजित एक बैठक में भारत निर्वाचन आयोग के उप निर्वाचन आयुक्त श्री सुदीप जैन के साथ प्रदेश के उन जिलों में चल रही मतगणना की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे, जहां पहले और दूसरे चरण में लोकसभा चुनाव का मतदान सम्पन्न हो चुका है । बैठक में प्रदेश के अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री संदीप यादव भी मौजूद थे । मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लोकसभा चुनाव की मतगणना निर्विघ्न सम्पन्न हो इसके लिए हर स्तर पर सावधानी बरतने की जरूरत बताई । उन्होंने मतगणना की तैयारियों में भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों का अक्षरश: पालन करने के निर्देश बैठक में मौजूद जिला कलेक्टरो को दिये । श्री कांताराव ने व्हीव्हीपेट मशीनों की पर्चियों की गणना के लिए गणना कर्मियों का अलग दल बनाने तथा उनके अलग से प्रशिक्षण पर जोर दिया । उन्होंने मतगणना के पूर्व की तैयारियों के तहत प्रत्येक जिला मुख्यालयों पर एक-एक आदर्श मतगणना कक्ष बनाने की बात भी कही जहां न केवल गणना कर्मी बल्कि उम्मीदवार अथवा उनके अभिकर्त्ता भी मतगणना के व्यावहारिक पहलुओं के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें । मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बैठक में प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के पीछे व्हीव्हीपेट मशीनों की पर्चियों की गणना के लिए अलग से एक टेबल निर्धारित करने की हिदायत भी बैठक में दी । उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग के निर्देशों के मुताबिक व्हीव्हीपेट मशीनों की पर्चियों की गणना रिटर्निंग अधिकारी और आयोग के प्रेक्षक की देखरेख में ही करानी होगी । श्री कांताराव ने मतगणना तक स्ट्राँग रूमों की सुरक्षा के बारे में भी सतर्क रहने के निर्देश जिला निर्वाचन अधिकारियों को दिये । उन्होंने कहा कि स्ट्राँग रूम के प्रोटोकाल का हर हाल में पालन जिला निर्वाचन अधिकारियों को करना होगा ।श्री कांताराव ने बैठक के प्रारंभ में निष्पक्ष, निर्विघ्न और स्वतंत्र मतदान के लिए जिलों के कलेक्टर को बधाई दी साथ ही मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिये उनके जिलों में किये गये प्रयासों के लिए भी उनकी सराहना की । उन्होंने जिला निर्वाचन अधिकारियों को मतगणना की तैयारियों के दौरान मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से निरन्तर सम्पर्क में रहने की सलाह दी, ताकि किसी भी तरह की कठिनाई आने पर उनका त्वरित निराकरण किया जा सके । बैठक में भारत निर्वाचन आयोग के उप निर्वाचन आयुक्त श्री सुदीप जैन ने भी मतगणना की तैयारियों में सतर्कता बरतने के निर्देश जिला निर्वाचन अधिकारियों को दिये । उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में मतों की गणना विधानसभावार की जायेगी तथा एक चक्र के गणना परिणामों की घोषणा के बाद ही अगले चक्र के मतों की गिनती प्रारंभ की जा सकेगी । उप निर्वाचन आयुक्त ने व्हीव्हीपेट मशीनों की पर्चियों की गणना में बरती जाने वाली सावधानियों की जानकारी भी बैठक में दी । उन्होंने व्हीव्हीपेट की पर्चियों की गणना के लिए नियुक्त किये जाने वाले अमले को अलग से प्रशिक्षण दिये जाने के साथ-साथ गणना की मॉकड्रिल की आवश्यकता भी बताई । श्री जैन ने बैठक में स्ट्राँग रूम की सुरक्षा के विषय पर चर्चा करते हुए कहा कि जिला निर्वाचन अधिकारियों को यदि वे मुख्यालय पर हैं तो प्रतिदिन स्ट्राँग रूम का निरीक्षण करना चाहिए । उन्होंने स्ट्राँग रूम की निगरानी के लिए लगाये गये सीसीटीव्ही कैमरों की रिकार्डिंग की समुचित व्यवस्था पर भी जोर दिया ।उप निर्वाचन आयुक्त ने बैठक में जबलपुर में स्ट्राँग रूम की सुरक्षा के लिए किये गये इंतजामों की तारीफ की । उन्होंने कहा कि यहां स्ट्राँग रूम की सुरक्षा कुछ इस तरह की गई है कि परिंदा भी पर नहीं मार सकता । श्री जैन ने जबलपुर की तर्ज पर अन्य जिलों में भी स्ट्राँग रूम के प्रोटोकॉल का पालन करने की बात बैठक में कही । बैठक में जबलपुर की जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज सहित 23 जिलों के कलेक्टर मौजूद थे ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close