अपराधबड़ी खबरमध्य प्रदेश

लोकायुक्त की टीम को देखकर संयुक्त संचालक ने फेंक दी रिश्वत की राशि करने लगा विवाद

जबलपुर :लोकायुक्त की टीम को देखकर रिश्वतखोर सँयुक्त संचालक ने रिश्वत की राशि फेंक दी लेकिन वह लोकायुक्त के जाल से बच नहीँ पाया मामला जबलपुर के उद्यानकी विभाग का है जहां पर आज लोकायुक्त पुलिस की टीम ने उद्यानिकी संचालक आरबी राजोदिया को एक लाख रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा है. लोकायुक्त अधिकारियों के हत्थे चढ़ते ही आरबी राजोदिया ने रिश्वत की राशि फेंक दी और विवाद करने पर उतारु हो गए, जिन्हे समझाइश देते हुए शांत कराया. इस संबंध में लोकायुक्त डीएसपी जेपी वर्मा ने बताया कि पौध नर्सरी संचालक ने उद्यानिकी में सप्लाई किए गए पौधों के 25 लाख रुपए के बिल क ा भुगतान करने के लिए आवेदन दिया, जिसपर उद्यानिकी संचालक ने उक्त बिलों का भुगतान करने के एवज में एक लाख रुपए रिश्वत की मांग कर डाली.रिश्वत न देने पर बिलों के भुगतान में विलम्ब किया जा रहा था. इस बात की शिकायत लोकायुक्त एसपी अनिल विश्वकर्मा से की गई, इसके बाद आज पौध नर्सरी संचालक एक लाख रुपए लेकर संयुक्त संचालक आरबी राजोदिया के अधारताल स्थित आवाज पर पहुंचा, जहां पर आरबी राजोदिया को जैसे ही एक लाख रुपए की रिश्वत दी, इस दौरान लोकायुक्त डीएसपी जेपी वर्मा, इंस्पेक्टर आस्कर किंडो, कमलसिंह उईके, आरक्षक अतुल श्रीवास्तव, दिनेश दुबे, विजय सिंह विष्ठ, रविन्द्र सिंह ने दबिश देकर आरबी राजोदिया को रंगे हाथ पकड़ लिया.

एक लाख रुपए की रिश्वत

लोकायुक्त टीम को देखते ही श्री राजोदिया ने रिश्वत की राशि फेंक दी और विवाद करने पर उतारु हो गए, इस दौरान संयुक्त संचालक ने काफी देर तक हंगामा किया, यहां तक कि अचानक शोर सुनकर परिजन भी आ गए, जिन्हे श्री राजोदिया द्वारा रिश्वत लिए जाने का पता चला तो वे भी स्तब्ध रह गए.

लोकायुक्त टीम ने आरबी राजोदिया के घर में बने आफिस की भी जांच की और कई आफिसियल दस्तावेज बरामद किया, जिससे यह बात भी पता चली कि आरबी राजोदिया इस तरह की फाइलों को अपने घर में ही दबाकर रखता था, ताकि जो भी लेनदेन का मामला हो घर पर ही कर सके. नर्सरी संचालक जब रिश्वत की राशि देने के लिए तैयार हो गया था तो उसे भी राजोरिया ने आफिस की बजाय घर पर ही बुलाया था. आज रविवार को पर्वान्ह 11 बजे के लगभग जैसे ही घर पहुंचकर एक लाख रुपए की रिश्वत दी, तभी उसे पकड़ लिया गया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close