खास खबरमध्य प्रदेश

सार्वजनिक स्थानों में उत्सवों के आयोजन पर प्रतिबंध, मूर्तियों,सवारी,ताजिये व टिपरियो के नदी, तालाब और कुंडों में विसर्जन पर रोक


जबलपुर :जिला दण्डाधिकारी एवं कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 (1) के तहत पूर्व में जारी आदेश में आंशिक संशोधन कर जिले भर में सार्वजनिक स्थानों पर धार्मिक कार्यों एवं त्यौहारों के आयोजन पर रोक लगा दी है ।
जिला दण्डाधिकारी द्वारा आज जारी संशोधित प्रतिबंधात्मक आदेश में सपष्ट किया गया है कि कोरोना के संक्रमण से लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा को देखते हुये जिले में सार्वजनिक स्थानों पर मूर्ति, झांकी एवं ताजिये आदि स्थापित भी नहीं किये जा सकेंगे ।
इसी प्रकार धार्मिक आयोजनों के दौरान जुलूस, रैली अथवा शोभायात्रा भी नहीं निकाली जा सकेगी तथा सार्वजनिक स्थानों पर महाआरती, भंडारा, लंगर और प्रसाद वितरण के कार्यक्रम भी पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगें ।प्रतिबंधात्मक आदेश में कहा गया है कि धार्मिक एवं उपासना स्थलों पर कोरोना के संक्रमण से बचाव के मद्देनजर एक परिसर में पांच से अधिक व्यक्ति एकत्रित नहीं हो सकेंगे । उपासना स्थलों पर फेस मास्क लगाने एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग सहित कोरोना प्रोटोकॉल के सभी मानकों का पालन करना भी अनिवार्य होगा ।जिला दण्डाधिकारी द्वारा जारी आदेश में यह भी स्पष्ट किया गया है कि कोविड संक्रमण को देखते हुये मूर्ति, सवारी, ताजिये, टिपारी आदि का नदियों, तालाबों, कुंडों एवं अन्य सार्वजनिक जल स्रोतों में विसर्जन करना भी प्रतिबंधित रहेगा और इन स्थानों पर भीड़ के रूप में एकत्रित होने पर भी रोक रहेगी ।प्रतिबंधात्मक आदेश सम्पूर्ण जिले में तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है । आदेश में कहा गया है कि प्रतिबन्धों का उल्लंघन पाये जाने पर दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60, भारतीय दंड संहिता की धारा 188 तथा अन्य समस्त प्रावधानों के तहत वैधानिक कार्यवाही की जायेगी ।आदेश तत्काल प्रभाव से प्रभावशील होगा एवं जारी किये जाने की तिथि से दो माह तक जिले की सीमा के अंतर्गत लागू रहेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close