जरा हटकेमध्य प्रदेश

सिहोरा में मशीनों से किया जा रहा रेत का अवैध उत्खनन,देखें वीडियो

कहां सो रहे जिम्मेदार? धड़ल्ले से हो रही रेत चोरी 


जबलपुर :एक तरफ सरकार कह रही है माफिया कितने भी बड़े हो उनपर कार्यवाही करो दूसरी तरफ माफिया दिन रात सक्रिय है ,कहीँ पर रेत का अवैध उत्खनन किया जा रहा है तो कहीँ पर मुरुम निकाली जा रही है ,अब इस बात से ही अंदाजा लगाया जा सकता है को सरकारी फरमान का जमीनी स्तर पर कितना पालन किया जा रहा है ,आज देखा जाए तो जिले की जीवनदायनी नदियों को रेत माफियो द्वारा खोखला किया जा रहा है ,नदियों से लगातार रेत का अवैध उत्खनन होने से जीवनदायनी नदियों के अस्तित्व पर संकट के बादल छाए हुए है एक तरफ तो प्रसासन द्वारा दावा किया जा रहा है की सरकार के माफियों विरोधी अभियान पर हम कार्यवाही कर रहे है,लेकिन मझगवाँ थाना क्षेत्र के देवरी लमतरा स्तिथ हिरन नदी के घाट से मोटरवोट लगाकर व रमखिरिया की बनने नदी से पोकलेन मशीन से रेत का अवैध उत्खनन करने की तस्वीरें माईनिंग विभाग व स्थानीय प्रसासन के माफिया विरोधी अभियान पर प्रश्नचिन्ह लगा रही है, साथ ही रेत माफियों द्वारा बरसात के समय (वर्तमान समय मे ) लगातार नदियों को खोखला कर रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन करने में दिनरात सक्रिय है अब ऐसे में सवाल उठता है की माईनिंग विभाग के अधिकारी कार्यवाही न कर कहाँ सो रहे है ,

हिरन नदी के घाट हो रहे खोखला 

वहीं सूत्रों की मानें तो सिहोरा अनुभाग के अंतर्गत आने वाली हिरन नदी के देवरी लमतरा में मोटर वोट के जरिये रेत का अवैध उत्खनन किया जा रहा है तो वहीँ रमखिरिया में पोकलेन मशीनों के जरिये रेत निकाली जा रही है ,इसके अलावा कछोहा, दराची गडचपा में रेत माफिया पूरी तरह सक्रिय है इतना ही नहीँ रेत माफियों द्वारा दिनदहाड़े हिरन नदी का सीना छलनी कर रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन किया जा रहा है ,लगातार हो रहे रेत के अवैध उत्खनन व परिवहन से हिरन नदी के प्राकृतिक घाटों की शोभा बिगड़ती जा रही है इतना ही नहीँ ये घाट खाईनुमा होते जा रहे है 

दिनरात सक्रिय है माफिया,

वहीं सूत्र बताते है की हिरन नदी व बन्ने नदी में रेत माफिया दिनरात सक्रिय है ,कहीँ पर पोकलेन मशीनों से रेत निकाली जा रही है तो कहीँ मोटर वोट के जरिये रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन किया जा रहा है ,

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close