हिरन नदी उद्गम में ही सूखी कहां गए जीणोद्धार के करोड़ों रुपये

शेयर करें:

जबलपुर कुंडम ,हिरन नदी आज उद्गम स्थल पर ही पूरी तरह सूख चुकी है स्थानीय लोगों की मानें तो लोगों ने हिरन नदी का उपयोग तो किया लेकिन हिरन नदी के बारे में कुछ भी अच्छे कदम नहीं उठाये इनमें प्रशासन और जनप्रतिनिधि भी हिरन के जीणोद्धार के नाम पर अपना उल्लू सीधा करते रहे लेकिन हिरन नदी का जीणोद्धार नहीं किया ग्रामीणों की मानें तो कुछ जनप्रतिनिधियों ने हिरन नदी के जीणोद्धार के नाम पर करोड़ों रुपये निकलवाये लेकिन हिरन नदी के उद्गम स्थल का जीणोद्धार नहीं किया नतीजन सदाबहार हिरन नदी आज अपने उद्गम स्थल पर ही सूख गई है इसके अतिरिक्त हिरन नदी कुंडम से लेकर खिरहनी तक सूख चुकी है इसके पीछे की बजह लोग अधिक मात्रा में बोर को भी बता रहे है यहाँ तक की गर्मियों में बोर नप कूप खनन पर पतिबन्ध के बाद भी आज धड़ल्ले से कुंडम क्षेत्र सहित पूरे जिले में धड़ल्ले से बोर किये जा रहे है लेकिन प्रशासन है की गर्मी में काला चश्मा लगाकर इन समस्यायों को नजर अंदाज कर रहा है