आयुष्मान कॉर्ड बनाने में प्रदेश में जबलपुर दूसरे नंबर पर 

शेयर करें:

 

 

जबलपुर:गरीब परिवार के सदस्यों को शासकीय एवं चिन्हित निजी अस्पतालों में पांच लाख रूपये तक के नि:शुल्क उपचार उपलब्ध कराने की आयुष्मान भारत योजना के तहत पात्र व्यक्तियों के आयुष्मान कार्ड बनाने में जबलपुर जिले ने पिछले एक माह के दौरान लम्बी छलांग लगाई है। कलेक्टर कर्मवीर शर्मा के निर्देशानुसार जिले में आयुष्मान कार्ड बनाने के लिये चलाये जा रहे विशेष अभियान के फलस्वरूप जबलपुर ने आयुष्मान भारत योजना के प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल किया है।

मुख्यमंत्री ने की तारीफ,

वहीीँ आयुष्मान कार्ड बनाने में जबलपुर की इस उपलब्धि का कल सोमवार को मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान द्वारा वीडियों कांफ्रेंसिंग से की गई समीक्षा में जिक्र किया गया था और इस कार्य में लगे अमले की तारीफ की गई थी। जबलपुर जिले में आयुष्मान भारत योजना के तहत कुल पात्र व्यक्तियों में से अभी तक 55 फीसदी के आयुष्मान कार्ड बनाये जा चुके है। एक माह पहले तक 31 फीसदी पात्र व्यक्तियों के आयुष्मान कार्ड ही बनाये जा सके थे। वर्तमान में आयुष्मान कार्ड बनाने में प्रदेश में पहले स्थान पर इंदौर जिला है। जबकि भोपाल, मंदसौर और ग्वालियर क्रमश: तीसरे, चौथे और पांचवे स्थान पर है।
पात्र परिवारों को आयुष्मान भारत योजना में शामिल करने चलाये जा रहे जिले में विशेष अभियान के तहत फिलहाल प्रतिदिन 6 से 8 हजार आयुष्मान कार्ड बनाये जा रहे है। लोगों की सुविधा को देखते हुये आयुष्मान कार्ड बनाने की व्यवस्था ग्रामीण क्षेत्र में ग्राम पंचायत कार्यालय तथा शहरी क्षेत्र में वार्ड स्तर एवं संभागीय कार्यालयों में की गई है। इसके साथ ही जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्र एवं शासकीय अस्पतालों में भी पात्र व्यक्तियों के आयुष्मान कार्ड बनाये जा रहे हैं। जबलपुर जिले में आयुष्मान भारत योजना के तहत 11 लाख 93 हजार 158 पात्र व्यक्तियों में से अभी तक 6 लाख 56 हजार 575 व्यक्तियों के आयुष्मान कार्ड बनाये जा चुके हैं। वर्ष 2011 की आर्थिक सामाजिक गणना की सूची में शामिल परिवार, संबल कार्डधारी व्यक्ति तथा खाद्य सुरक्षा योजना के तहत पात्रता पर्चीधारी व्यक्ति इस आयुष्मान भारत योजना के तहत आयुष्मान कार्ड बनवाने के पात्र है।